Swaraj, Salt & Quit India Movement 8th May 2019 2019-05-08¢  Non Cooperation Movement The non-cooperation

  • View
    11

  • Download
    0

Embed Size (px)

Text of Swaraj, Salt & Quit India Movement 8th May 2019 2019-05-08¢  Non Cooperation Movement...

  • Who among the following is the Chairman of the 15th Finance commission?

    निम्िलिखित में से कौि 15 वें ववत्त आयोग के अध्यक्ष हैं?

    A. Ajay Narayan Jha

    B. N.K. Singh

    C. Arvind Subramanian

    D. Rajiv Mehrishi Swaraj, Salt & Quit India Movement

    8th May 2019

  • DLB 2

  • Non Cooperation Movement

    The non-cooperation movement was

    launched on 1st August 1920 by the

    Indian National Congress (INC) under the

    leadership of Mahatma Gandhi.

    It signified a new chapter in the history of

    Indian freedom struggle.

    Gandhiji called off the movement in

    February, 1922 in the wake of the Chauri

    Chaura incident.

    In Chauri Chaura, Uttar Pradesh, a

    violent mob set fire to a police station

    killing 22 policemen during a clash

    between the police and protesters of the

    movement.

    असहयोग आंदोलन

    असहयोग आंदोलन 1 अगस्त 1920 को

    महात्मा गांधी के नेतृत्व में भारतीय राष्ट्रीय

    कांग्रेस (INC) द्वारा शुरू ककया गया ाा

    इसने भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के इततहास

    में एक नए अध्याय का संकेत कदया

    गांधीजी ने चौरी चौरा घटना के मदे्दनजर

    फरवरी, 1922 में आंदोलन को बंद कर

    कदया

    उत्तर प्रदशे के चौरी चौरा में एक हहसंक

    भीड़ ने पुतलस और आंदोलनकाररयों के

    बीच झड़प के दौरान एक पुतलस स्टेशन में

    आग लगा दी तजसमें 22 पुतलसकर्मियों की

    मौत हो गई

  • Gandhiji called off the movement saying people were not ready for revolt against the government through ahimsa. A lot of leaders like Motilal Nehru and C R Das were against the suspension of the movement only due to sporadic incidents of violence.

    The Swaraj Party or the Congress-Khilafat Swarajya Party was formed on 1 January 1923 by C R Das and Motilal Nehru.

    गांधीजी ने आंदोलन को यह कहते

    हुए बंद कर कदया कक लोग अहहसंा के

    माध्यम से सरकार के तिलाफ तवद्रोह

    के तलए तैयार नहीं ाे मोतीलाल

    नेहरू और सी आर दास जैसे बहुत

    से नेता केवल हहसंा की तिटपुट

    घटनाओं के कारण आंदोलन को

    स्ातगत करने के तिलाफ ाे

    स्वराज पाटी या कांग्रेस-तिलाफत

    स्वराज्य पाटी का गठन 1 जनवरी

    1923 को सी आर दास और

    मोतीलाल नेहरू ने ककया ाा

  • After the Chauri Chaura incident,

    Mahatma Gandhi withdrew the non-

    cooperation movement in 1922.

    This was met with a lot of disagreements

    among leaders of the Congress Party.

    In 1922, in the Gaya session of the

    Congress, C R Das (who was presiding

    over the session) moved a proposal to

    enter the legislatures but it was defeated.

    Das and other leaders broke away from

    the Congress and formed the Swaraj

    Party.

    C R Das was the President and the

    Secretary was Motilal Nehru.

    Prominent leaders of the Swaraj Party

    included N C Kelkar, Huseyn Shaheed

    Suhrawardy and Subhas Chandra Bose.

    चौरी चौरा की घटना के बाद, महात्मा गांधी ने

    1922 में असहयोग आंदोलन वापस ले तलया

    यह कांग्रेस पाटी के नेताओं के बीच बहुत

    असहमततयों के साा तमला ाा

    1922 में, कांग्रेस के गया सत्र में, सी आर दास

    (जो सत्र की अध्यक्षता कर रह ेाे) ने

    तवधानसभाओं में प्रवेश करने का प्रस्ताव रिा,

    लेककन यह हार गया दास और अन्य नेताओं ने

    कांग्रेस से अलग हो गए और स्वराज पाटी का

    गठन ककया

    सी आर दास अध्यक्ष ाे और मोतीलाल नेहरू

    सतचव ाे

    स्वराज पाटी के प्रमुि नेताओं में एन सी

    केलकर, हुसैन शहीद सुहरावदी और सुभाष

    चंद्र बोस शातमल ाे

  • Swaraj Party and its achievements

    • Swarajist Vithalbhai Patel became

    speaker of the Central Legislative

    Assembly in 1925.

    • They outvoted the government many

    times even in matters related to

    budgetary grants.

    • They were able to defeat the Public

    Safety Bill in 1928.

    • They exposed the weaknesses of the

    Montagu-Chelmsford reforms.

    • They gave fiery speeches in the

    Assembly on self-rule and civil

    liberties.

    स्वराज पाटी और उसकी उपलतधधयां

    • स्वराजवादी तवट्ठलभाई पटेल 1925 में

    कें द्रीय तवधान सभा के स्पीकर बने

    • बजटीय अनुदान से संबंतधत मामलों में भी

    उन्होंने कई बार सरकार की आलोचना की

    • वे 1928 में साविजतनक सुरक्षा तवधेयक को

    परातजत करने में सक्षम ाे

    • उन्होंने मोंटागु-चेम्सफोर्ि सधुारों की

    कमजोररयों को उजागर ककया

    • उन्होंने स्व-शासन और नागररक स्वतंत्रता

    पर तवधानसभा में उग्र भाषण कदए

  • The Simon Commission was a

    group of 7 MPs from Britain

    who was sent to India in 1928

    to study constitutional reforms

    and make recommendations to

    the government. The

    Commission was originally

    named the Indian Statutory

    Commission. It came to be

    known as the Simon

    Commission after its chairman

    Sir John Simon.

    साइमन कमीशन तिटेन के 7 सांसदों का

    एक समूह ाा, तजसे 1928 में

    संवैधातनक सुधारों का अध्ययन करने

    और सरकार को तसफाररश करने के तलए

    भारत भेजा गया ाा आयोग को मूल

    रूप से भारतीय वैधातनक आयोग का

    नाम कदया गया ाा यह अपने अध्यक्ष

    सर जॉन साइमन के नाम से साइमन

    कमीशन के रूप में जाना जाने लगा

  • Diarchy was introduced in India by the

    Government of India Act 1919. The Act

    also promised that a commission would

    be appointed after 10 years to review the

    working and progress made on the

    measures taken through the Act.

    The Indian public and leaders wanted a

    reform of the diarchy form of government.

    The Conservative Party-led government

    in the UK feared a defeat at the hands of

    the Labour Party in the elections due, and

    so hastened the appointment of a

    commission in 1928 even though it was

    due only in 1929 as per the 1919 Act.

    • भारत सरकार अतधतनयम 1919 द्वारा भारत में

    र्ायवसी की शुरुआत की गई ाी अतधतनयम ने

    यह भी वादा ककया ाा कक अतधतनयम के

    माध्यम से ककए गए उपायों पर ककए गए कायि

    और प्रगतत की समीक्षा के तलए 10 वषों के बाद

    एक आयोग तनयुक्त ककया जाएगा

    • भारतीय जनता